How to Check Sweets Adulteration at Home - मिठाई में मिलावट घर पे जांचे - Harmful effect of Adulterated sweets


त्योहारो का मौसम आने वाला है और मिलावट खोर एक्टिव हो गए है।  शायद आप को पता नहीं की 100 में से 95%  मिलावटी मिलावटी होती है। और उसमे ऐसे मिलावटी तत्व मिले होते है जो आप को बीमार और बलहीन बनाते है।




 क्र: 
 प्रोडक्ट 
मिलावटी तत्व 
 हानि 
मावा / खोया से बनी मिठाई : मिल्क केक , बर्फी , पेड़ा , जुलाब जामुन , जलेबी , गुजिया )
Starch (अरारोट )
मोटापा , धन की हानि , दाँतो में दिक्कत , नुट्रिशन की कमी। 
छेना और पनीर से बनी मिठाई 
Starch (अरारोट )
मोटापा , धन की हानि , दाँतो में दिक्कत , नुट्रिशन की कमी।
राबड़ी
ब्लोटिंग पेपर
पेट की बीमारी
मिठाई और मिठाई बनाने की सामग्री में
कोल् तार डाई
एक्जिमा , पसोरियासिस , सीबोररहेइक डर्मेटाइटिस और स्किन की बीमारी।
देशी घी स्वीट्स
वनस्पति घी
धन की हानि , नुट्रिशन की कमी
1 - 2  # मिलावटी स्टार्च / अरारोट की  जाँच मिठाई में (Check Adulteration of Starch in स्वीट्स ) :  

मिलावट का स्रोत और उदेश्य:  
अरारोट (स्टार्च) आसानी से किराना स्टोर पर मिल जाता है/ स्टार्च के मिलावट से दुध गाढ़ा हो जाता हैं जिससे गलत फ़हमी हों जाती है की दुध अच्छी क्वालिटी का हैं।

स्वास्थ पर दुस्प्रभाव : दाँतो को नुक्सान ज्यादा स्टार्च खाने से मोटापा धन का नुकसान।  
  • एक टुकड़ा मिठाई का एक परखनली में ले। 
  • उसमें २-५ बूंद आयोडीन का घोल डाले। 
  • कुछ ही छड़ में यदि नीला रंग दिखाई दे तो उसमें स्टार्च मिला हुआ हैं।
  • आयोडीन आप के नजदीकि मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिल जाता हैं।

Reference : FSSAI Manual for Milk and Milk products.

3 # ब्लॉटिंग पेपर की जाँच राबड़ी मिठाई में ( Detection of Blotting paper in Rabri) :

* एक टुकड़ा मिठाई का एक परखनली में ले। 
* उसमे 3 ml HCL और 3 ml डिस्टिल्ड वाटर डाले। 
* फिर ग्लास रॉड से घुमाये। 
* रॉड बाहर निकाल के चेक करे कि यदि रॉड पे फाइन फाइबर दिखे तो उसमें ब्लोटिंग पेपर मिला हुआ है। 

Reference: Aggmark adulteration Manual.

4 # Coal Tar Dye detection in Sweets ( कोल् तार डाई ) की जांच मिठाई  में - (p -Phynylenediamine) : 
 कोल् तार डाई एक aritificial कलरिंग एजेंट होता है जो एरोमेटिक हाइड्रोकार्बन जैसे - tolune , जाइलिन , बेंजीन जोकि bituminous कोल् से निकाला जाता है। 

Health Effect (स्वास्थ हानिकारक ) - 
 एक्जिमा , पसोरियासिस , सीबोररहेइक डर्मेटाइटिस और स्किन की बीमारी।
* 5 मिली लीटर अम्ल (H2SO4 or HCL acid) एक टुकड़ा मिठाई में डाले।
 * अच्छे से हिलाये
 * यदि H2SO4 के साथ गुलाबी रंग (Pink color) और HCL के साथ चटक लाल कलर आए तो कोल् तार डाई मिला हुआ है

 Reference:  FSSAI Manual for milk and milk products 

5 # वनस्पति तेल की पहचान मिठाई में और उसका स्वास्थ पर प्रभाव (Adulteration of Vegetable oil in sweets ):
  • स्वास्थ हानि : कोलेस्ट्रोल बढ़नामधूमेहधमनी रोग धन कि हानि। 
    मिलावट का श्रोत और कारण : वनस्पति तेल / वनस्पति तेल मिलाने से वसा की मात्रा बढ़ जाती जिससे दूध अच्छी क्वालिटी का प्रतित होता हैं।
    *लगभग ३ मिलि ० दूध एक परखनली में ले। 
    * उसमें १० बून्द हीड्रोक्लोरिक एसिड मिलाए और उसमें एक चम्मच चीनी घोले।  
    *5 मिनट के बाद देखें। यदि लाल रंग दिखें तो उसमे वनस्पति का तेल मिला हुआ हैं।

    6 # चाँदी की वरक़ वालि मिठाई बनाती है जानवरो की आंत से :CHANDI VARAKH/SILVER FOIL IS NOT VEGETARIAN


    चाँदी वरक़ बनाने के लिए चांदी को पशुओं की अति लचीली आंतों के बीच रख कर पीट - पीट कर  एक चादर में ढाला जाता है और इसकी मोटाई मात्र कुछ माइक्रोमीटर ही रह जाती है। इसे सहेजने के लिए इसे कागज की परतों के बीच रखा जाता है और इसे उपयोग से पहले इन कागजों मे से निकाला जाता है। यह बहुत ही नाज़ुक होता है और छूने पर छोटे छोटे टुकड़ों में टूट जाता है। क्योंकि वरक़ बनाने के लिए चांदी को पशुओं की अति लचीली आंतों के बीच रख कर पीटा जाता है और इन आंतों का कुछ हिस्सा इस वर्क का भी हिस्सा बन जाता है इसलिए, वरक़ एक तरह से एक मांसाहारी उत्पाद है।
     चांदी का वर्क लगी मिठाई आप जरूर खरीदते होंगे क्योंकि चांदी का वर्क लगी मिठाइयां देखने में सुंदर लगती हैं। किसी भी शुभ कार्य में चांदी के वर्क लगी मिठाई, चांदी का वर्क लगा पान आदि जरूर लाया जाता है और लोग इसे शाकाहारी मानते हैं.  हांलाकि चांदी का वर्क वास्तव में शुद्ध चांदी का होता ही नहीं है बल्कि एल्मीनियम जैसी किसी चमकीली धातु से बनाया जाता है।  चांदी के वर्क बनाने के लिए हर वर्ष 116000 जानवरों  की हत्या की जाती है। चांदी के वर्क के बारे में लखनऊ के  इंडियन इंस्टीटय़ूट आफ टाक्सकोलॉजी रिसर्च (आईआईटीआर) के अध्यनन के मुताबिक बाजार में उपलब्ध चांदी के वर्क में निकल, लेड, क्रोमियम और कैडमियम बहुतायत मात्रा में पाया जाता है। इसको खाने से कैंसर जैसे घातक रोग हो सकता है।

    7 # घातक यूरिआ की पहचान:

    मिलावट का स्रोत और उदेश्य:  

    यूरिया आसानी से एग्रीकल्चर स्टोर पर मिल जाता हैं।  दुध के प्रोटीन की मात्रा टेस्टिंग में अधिक आये इसलिए उसमें यूरिआ मिलते हैं।क्युकि प्रोटीन की मात्रा जिस विधि से निकलते हैं उसमें नाइट्रोजन की मात्रा निकाल के कैलकुलेट करते हैं  यूरिया में नाइट्रोजन होता हैं जो टेस्टिंग में प्रोटीन की गलत कैलकुलेशन करवाता है। 
    स्वास्थ पर दुस्प्रभाव:  
     फेफड़े पर दुष्प्रभाव हृदय रोग लिवर रोग.

    विधि :
    * एक पूरा चम्मच (लगभग २ मिली० ) मिठाई  एक परखनली में ले।
    * उसमें आधा चम्मच सोयाबीन या अरहर का पाउडर मिलाये।
    * हिला के उन्हें अच्छे से मिलाये।
    * 5 मिनट के बाद लाल लिटमस पेपर उससे भिगोये और 30 सेकंड के बाद लिटमस पेपर को निकल कर देख
    * यदि लिटमस पेपर लाल से नीला हो जाये तो उसमें यूरिया मिला हुआ है।